गुरुवार, मार्च 02, 2017

थके हुए पांव ...

Shayari of Dr (Miss) Sharad Singh

थके  हुए  पांव  अभी ठहरे हैं
दिल पे जो घाव लगे, गहरे हैं
- डॉ शरद सिंह

#Shayari #SharadSingh

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें