मंगलवार, जुलाई 25, 2017

खुली किताब सा मेरा मन .... डॉ. शरद सिंह

Poetry of Dr (Miss) Sharad Singh

खुली किताब सा मेरा मन
 ------------------------
खुली किताब सा मेरा मन
पर
क्या पढ़ने की फ़ुर्सत है
उसे
और पढ़ कर
समझने की?

2 टिप्‍पणियां: