मेरी कुछ ग़ज़लें





ऐसे भी हैं पत्थर लोग


46 टिप्‍पणियां:

  1. कथाक्रम महोत्सव में सुनने के बाद ब्लॉग पर नेट पर ढूँढ़ा तो पाया कि आप तो ग़ज़ल भी लिखती हैं....! आती रहूँगी..!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. prastuti ko aapne purn samagrata se samane rakha hai.Phir aunga.Mere blog par aapka intajar rahega.Dhanyavad.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत गज़ल ....और पहला अशआर भी सुन्दर ....आप हर क्षेत्र में अच्छा लिखती हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरत गज़ल, अच्छा लिखती हैं,आप

    उत्तर देंहटाएं
  5. Khubsurat gazal,khubsurat ehsaas...khubsurat chitran....aap bahut accha likhti hain...sadhuvaad.

    उत्तर देंहटाएं
  6. ☀ कंचन जी,
    ☀ प्रेम सरोवर जी,
    ☀ संगीता स्वरुप ( गीत )जी,
    ☀ Punjabi Sms Shayari

    मेरी गज़ल को पसन्द किया....हार्दिक आभार...
    आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. sumeet "satya"ji,

    Thank you for visiting my blog!
    I feel honored by your comment.

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुश्वंश जी,
    मेरी गज़ल को पसन्द किया....हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  9. विजय रंजन जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. उत्कृष्ट लेखन के साथ-साथ प्रस्तुतीकरण भी लाजवाब.
    जारी रहें. पढ़ते रहने का मन रहेगा.
    --
    व्यस्त हूँ इन दिनों-विजिट करें

    उत्तर देंहटाएं
  11. अमित के सागर जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मैडम बहुत अच्छा लिखते हो आप ,,,,आज आपकी लिखी बाते पढकर मुझे ...बहुत कुछ याद आ गया .....एसे ही लिखते रहो .........................!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह वाह वाह...डा. साहिबा, आपके ब्लॉग पर तो बहुत कुछ मिल गया. खासकर बहर-ओ-फ़न के पैमाने में ढलीं खूबसूरत ग़ज़लें दिल को छू गईं...सिलसिला जारी रखिएगा...शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  14. शुभ जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. शाहिद मिर्ज़ा शाहिद जी,
    मेरी गज़ल को पसन्द किया....हार्दिक आभार...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  16. मनु जी,
    बहुत बहुत धन्यवाद।
    मेरी गज़ल को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी ग़ज़लें और कवितायेँ पढ़कर बहुत आनंद आया.
    आशा है आगे भी उत्तम रचनाएँ पढने को मिलेंगी....
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  18. 'साहिल' जी,
    बहुत बहुत धन्यवाद।
    मेरी गज़ल को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  19. ब्लॉग का प्रस्तुतिकरण और पोस्ट की गई रचनाएँ वाकई अच्छी हैं......

    सफ़ल रचनात्मक प्रयास के लिए बधाई................

    उत्तर देंहटाएं
  20. हर्ष जी,
    बहुत बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  21. नदियाँ सूखी,सागर प्यासा, खुश्क हवाएं दौड़ रही पानी की भी कदर न जाने ,ऐसे भी है पत्थर लोग.... बहुत ही खूबसूरत,हालात के मद्दे नज़र...भौतिक रूप से भी,रूहानी तौर पर भी....

    उत्तर देंहटाएं
  22. अंजू जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  23. संदीप शीतल चौहान जी,
    बहुत बहुत धन्यवाद।
    मेरी गज़लों को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  24. "Sabut Ghar ke tukde -tukde tod rahen hain kuoonkar log "
    behtreen ashaar aapke ,
    kah rahe zazbaat aapke ,
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं
  25. वीरूभाई जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया आभारी हूं।
    हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  26. Doctor Sahiba
    Gadya aur padya dono par samaanadhikar,Ap bahut sunder likhati hain aur utani hee sundar bhavabhivyakti. subhkamanaayen

    उत्तर देंहटाएं
  27. behtarin ..aaj hi maine bhi jaan ki aap shero shayri mein bhi dilchaspi rakhti hain

    उत्तर देंहटाएं
  28. एस एन शुक्ला जी,
    आपने मेरी गज़ल को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  29. डॉ आशुतोष मिश्रा आशु जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरी गज़ल पसन्द आई।
    हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. bahut sunder or dil ko chune wali gazal hain aapki....bahut achha laga yahan aa ker...

    उत्तर देंहटाएं
  31. Sharad Ji,

    Beautiful and true thoughts about moindless carelessness of some people..

    keep on writing!!

    Ashu

    उत्तर देंहटाएं
  32. Sharad Ji,

    Beautiful and true thoughts about moindless carelessness of some people..

    keep on writing!!

    Ashu

    उत्तर देंहटाएं
  33. Miss Sharad Ji! I appreciate your Blog, Poems, Write-ups & Ghazals etc., all are really very Beautiful and I like it. I would like to please visit my Blog - Tumchhulo (http://tumchhulo.blogspot.com) and post your comments.
    Dr. Ashok Madhup (Geetkar),
    NOIDA.

    उत्तर देंहटाएं
  34. शरद जी नमस्कार, सुन्दर गजल--बहुत गरीबी है बस्ती मे--------------

    उत्तर देंहटाएं
  35. ‘‘बहुत गरीबी है बस्ती में, फटेहाल हैं ख्वाब जहाँ,
    नींद ढूँढ़ते हैं रातों को, बने हुए खुद बिस्तर लोग।’’
    क्या बात है, इस एक शेर पर बार-बार वाह! सचमुच आज आपके ब्लाग पर आकर मैंने बहुत अच्छा किया, उम्दा लिखती हैं आप। आपकी रचनाओं को पढ़कर उपलब्धि के होने का अहसास हो रहा है। बहुत सी शुभकामनाएँ आपके लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  36. डॉ.शरद जी पहले की भाति आज भी आपके ग़ज़ल पर क्या
    कहूँ बस एक .......
    आप सभी विधाओं में बहुत खुबसूरत लिखती हैं .
    अच्छे लोग अच्छी बातें ही लिखते हैं .
    ऐसा मत समझिये की जब आपकी अभिव्यक्ती कमजोर
    होगी तो भी आपकी प्रसंशा की जाएगी
    .वाकई आप सशक्त लेखनी की मालकिन हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  37. मैंने गज़ल पर एक आलेख लिखा है , " हिन्दी गज़ल - तब और अब " इसे आप पढिए , आपको अच्छी लगेगी । आपकी गज़लें मुझे बहुत अच्छी लगी किन्तु मेरा मन ' अनुभूति ' में अटका हुआ है । समयाभाव के कारण , मुझे अपने लोभ का संवरण करना पड रहा है ।
    क्या मुझे अनुभूति नहीं मिल सकती ?
    shaakuntalam.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  38. सादगी और अभिव्यक्ति का सुन्दर सम्मिश्रण ...

    उत्तर देंहटाएं
  39. जिन नारियों का आत्मविश्वास डगमगा रहा है , जो अपने आप को कमजोर समझ रहीं हैं , वह इस गीत को पढ़कर एक जोश अपने में भर लें ......................

    कोमल है कमजोर नहीं तू ,
    शक्ति का नाम ही नारी है !
    जग को जीवन देने बाली ,
    मौत भी तुझसे हारी है !
    सतियों के नाम पे तुझे जलाया ,
    मीरा के नाम पे जहर पिलाया
    सीता जैसी अग्नि परीक्षा ,
    आज भी जग में जारी है !
    कोमल है कमजोर नहीं तू , शक्ति का नाम ही नारी है
    इल्म , हुनर में, दिल दिमाग में ,
    किसी बात में कम तो नहीं
    पुरुषों बाले सारे ही,
    अधिकारों की अधिकारी है !
    बहुत हो चुका अब मत सहना ,
    तुझे इतिहास बदलना है !
    नारी को कोई कह ना पाए ,
    अबला है बेचारी है !
    कोमल है कमजोर नहीं तू , शक्ति का नाम ही नारी है

    उत्तर देंहटाएं